TOD Full Form in Army

नमस्कार पाठको, आज के इस लेख में हम आपको TOD  Ka Full Form In Hindi के बारे में बताने वाले हैं। जो पाठक आर्मी से जुड़ी जानकारी के बारे में रुचि रखते हैं या जो आर्मी में भर्ती होने का शौक रखते हैं,  उनके लिए यह लेख बहुत खास होने वाला है। तो चलिए आपको इस लेख के जरिए full form of tod in army और इससे जुड़ी agneepath yojna  के बारे में अवगत करवाते हैं।

TOD Full Form in Army
TOD Full Form in Army

TOD Full form

TOD का फुल फॉर्म Tour Of Duty होता है।

  • T– Tour
  • O – Of
  • D – Duty

अलग-अलग सेक्टर में TOD का अलग-अलग meaning निकल कर सामने आता है जैसे आर्मी में TOD का फुल फॉर्म टूर ऑफ ड्यूटी होता है और infrastructure development सेक्टर में टोड ट्रांसिट ओरिएंटेड डेवलपमेंट के लिए भी प्रयोग किया जाता है, क्योंकि आज का हमारा यह लेख आर्मी sector से जुड़ा हुआ है इसलिए आज के इस लेख में हम TOD full form of army के बारे में विस्तार से जानेंगे।

TOD के बारे में जानकारी

Tod के तहत युवाओं को सेना में भर्ती किया जाना है। Tod के अनुसार युवाओं को 3 प्रकार की सेना में भर्ती किया जाना है और वह तीन प्रकार की सेना वायु सेना, जल सेना और नौसेना है। भारत में जिस स्कीम के तहत, इन तीनों सेनाओं की भर्ती को किया जाना है उसे Tod agneepath योजना कहते हैं। यह भारत में हाल ही में शुरू की गयी है।

इस योजना की शुरुआत एक तरह से द्वितीय विश्वयुद्ध के समय से हो गई है। द्वितीय विश्वयुद्ध के समय ब्रिटिश वायुसेना के पायलटों पर pressure बन गया था उस समय यह शर्त रखी गई कि हर पायलट को 2 साल में करीब 200 घंटे विमान उड़ाना है और यह योजना success रही।

TOD Full Form in Army

TOD का full form हिंदी में टूर ऑफ ड्यूटी होता है। TOD स्कीम को ही अग्निपथ योजना, अग्निपथ scheme और Agneepath Recruitment Scheme के नाम से जाना जाता है। सेंट्रल गवर्नमेंट ने इंडियन आर्मी में अग्निपथ भर्ती योजना की शुरुआत की है। आर्मी में TOD का फुल फॉर्म टूर ऑफ ड्यूटी होता है।

Tod agnipath योजना का मुख्य उदेश्य
Tod agnipath योजना का मुख्य उदेश्य

Tod agnipath योजना का मुख्य उदेश्य

अग्निपथ योजना के अनुसार इस योजना की शुरुआत सेना में जवानों की संख्या बढ़ाने के purpose से की गई है और साथ ही सेना में short term और long term नौकरी का option मिलेगा।

यह स्कीम उन युवाओ के लिए भी है जो आर्मी में जाने के लिए सालों साल कड़ी मेहनत करते हैं। इस scheme के तहत देश की सेवा की भावना रखने वाले युवाओं को मौका मिलेगा।

इस प्रोजेक्ट की वजह से गवर्नमेंट का भी benefit है। एक तो कम लोगों को पेंशन देनी पड़ेगी और दूसरी तरफ से salary  में भी बचत होगी, जिससे सेना के करोड़ों रुपए की बचत होगी।

Agnipath yojna concept
Agnipath yojna concept

Agnipath yojna concept Kya hai ?

वह युवा जो आर्मी जॉइन करना चाहते हैं उनका यह सपना बहुत जल्दी पूरा होने वाला है। इस स्कीम के तहत युवा आर्मी में 3 से 5 साल के लिए अपनी सेवा दे सकता है। इस योजना के तहत आर्मी में सेवा प्रदान करने की समय सीमा निर्धारित की गई है। इसे अग्निपथ एंट्री स्कीम भी कहते हैं। एक तय समय सीमा के लिए आर्मी में भर्ती होने के कांसेप्ट को टूर ऑफ ड्यूटी (Tour of duty) कहा जाता है।

TOD concept द्वितीय विश्वयुद्ध से चलता आ रहा है द्वितीय विश्व युद्ध के समय ब्रिटेन के पायलटों पर बहुत ज्यादा pressure आ गया था तो इस प्रेशर को कम करने के लिए टूर ऑफ ड्यूटी का concept लाया गया था, जो काफी success रहा था।

Tod agnipath scheme in India

हाल ही में भारत में Agnipath Recruitment scheme का ऐलान किया गया है। इस स्कीम के अनुसार सेना भर्ती प्रक्रिया में बड़े बदलाव किए गए हैं। रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने बताया कि अग्निपथ योजना के तहत युवाओं को केवल 4 वर्ष के लिए सेना में भर्ती किया जाएगा और अपना ड्यूटी टाइम पीरियड खत्म होने पर उन्हें सेवा निधि पैकेज मिलेगा। इस योजना के तहत सेना में शामिल होने वाले युवाओं को अग्निवीर Agniveer कहा जाएगा।

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने अग्निपथ योजना योग्‍यता के बारे में भी बताया है। Agnipath yojna yogyta के अनुसार सेना में भर्ती होने वाले युवक की आयु 17.5 साल से 21 साल के बीच होनी चाहिए। इसमें 10वीं और 12वीं के छात्र apply कर सकते हैं। 4 वर्ष के बाद जो अग्निवीर निपुण और सक्षम हो जाएंगे उनका duty कार्यकाल की अवधि को बढ़ा दिया जाएगा।

Note – 1 साल के लिए अग्नीपथ योजना में आवेदन करने के लिए आवेदकों की आयु सीमा को 21 साल से बढ़ाकर 23 साल कर दिया है

अग्नीपथ योजना के तहत अग्नि वीरों का पहले साल 4.76 लाख का सालाना package होगा। इसके बाद यह 4 साल में बढ़कर लगभग 6.90 लाख तक पहुंच जाएगा। नौकरी छोड़ने के बाद युवाओं को 11.7 लाख रुपए की सेवा निधि दी जाएगी और यदि कोई अग्निवीर शहीद हो जाता है तो उसके परिवार को लगभग एक करोड़ तक की राशि दी जाएगी और यदि कोई agniveer disable हो जाता है तो उसे 44 लाख तक का मुआवजा दिया जाएगा।

Tod  Army Selection process

अग्नीपथ योजना के तहत अग्निवीरों का selection process की अधिकारिक जानकारी अभी नहीं दी गई है परंतु हम बात करेंगे कि अभी तक आर्मी में सिलेक्शन प्रोसेस किस तरह से रहता है। तो चलिए जानते हैं:-

  • Physical test
  • Written test
  • Medical test

Physical test

भारतीय सेना में भर्ती होने के लिए सेना की website पर apply करने के बाद सबसे पहले फिजिकल टेस्ट किया जाता है। इसमें candidate की लंबी कूद, ऊंची कूद और दौड़ आदि के टेस्ट लिए जाते हैं। इसके बाद candidate का measurement test होता है।

Medical test

फिजिकल टेस्ट clear होने के बाद उम्मीदवारों का मेडिकल टेस्ट करवाया जाता है। इस टेस्ट में उम्मीदवार की आंखों का टेस्ट किया जाता है और साथ ही ब्लड ग्रुप, कान, आवाज आदि का टेस्ट किया जाता है। इन टेस्ट में यदि कोई कमी पाई जाती है तो candidate आगे के टेस्ट के लिए eligible नही होता।

Written test

फिजिकल टेस्ट और मेडिकल टेस्ट क्लियर करने के बाद कैंडिडेट का रिटन टेस्ट लिया जाता है। यह 100 अंकों का होता है और इसे 1 घंटे में पूरा करना होता है।

जो कैंडिडेट इन तीनों टेस्ट को pass कर देता है उसे सेना में भर्ती होने का मौका मिलता है और उसे ट्रेनिंग के लिए भेज दिया जाता है।

 

निष्कर्ष

दोस्तों, आज के इस लेख में  हमने TOD  Ka Full Form Army In Hindi के बारे में जाना है। हमारे द्वारा दी गई जानकारी से आप समझ गए होंगे कि TOD agneepath full form क्या होता है। आशा करते हैं कि हमारा यह लेख आपको पसंद आया होगा। यदि इस लेख से संबंधित कोई भी प्रश्न आपके मन में है तो हमें कमेंट सेक्शन में लिखकर जरूर बताएं।

यह भी पढ़े

 अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न (FAQ)

Q. भारत में हाल ही में सेना की भर्ती के लिए कौन सी स्कीम निकाली गई है?

Ans.  अग्निपथ रिक्रूटमेंट स्कीम Agnipath recruitment scheme

Q. TOD के तहत आर्मी में कितने साल की सेवा निर्धारित की गई है?

Ans. 4 साल

Q. TOD की फुल फॉर्म क्या है?

Ans. Tour of duty